Hindi Diwas

Hindi Diwas

जानें- कैसे हिंदी बनी थी राष्ट्रभाषा, क्यों मनाया जाता है ये दिन.....

नई दिल्ली  :   हिंदी को राजभाषा का दर्जा 14 सितंबर, 1949 के दिन मिला था ।तब से हर साल यह दिन ‘हिंदी दिवस’ के तौर पर मनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है? इसके पीछे एक वजह है। आइए जानते हैं इससे जुड़ी अहम बातें।हिंदी भारतीय गणराज की राजकीय और मध्य भारतीय- आर्य भाषा है। 2001 की जनगणना के अनुसार, लगभग 25.79

दुनिया के 30 से अधिक देशों में पढ़ी और पढ़ाई जाती है हिंदी, जानें इस दिन से जुड़ी खास बातें...

नई​ दिल्ली :   14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी। राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर 1953 से 14 सितंबर का दिन हर साल ‘हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाने लगा। 1918 में आयोजित हिंदी साहित्य सम्मेलन में महात्मा गांधी ने हिंदी को आम जनमानस की भाषा बताते हुए इसे राष्ट्रभाषा का दर्जा देने के

इन मैसेजेस से दें हिंदी दिवस की शुभकामनाएं....

नई दिल्ली: 14 सितंबर को हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है। इस दिन स्कूलों में कहानी, कविताओं, निबंध के कार्यक्रम होते हैं, कई शिक्षक और छात्र-छात्राएं भाषण देते हैं। सोशल मीडिया पर हिंदी में शायरी और कोट्स शेयर किया जाता है। वहीं, लोग मोबाइल पर भी बाकि त्योहारों की तरह स्टेटस अपडेट रखते हैंं। बता दें, आजादी मिलने के बाद 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा में हिन्‍दी को

हिंदी दिवस पर ऐसे तैयार कीजिए स्पीच/भाषण....

बेंगलुरु:   अंग्रेजी भाषा की वजह से हिंदी भाषा के गिरती लोकप्रियता को रोकने के लिए हर साल 14 सितंबर को देश भर में ‘हिंदी दिवस’ मनाया जाता है। हिंदी को जानने, समझने और बोलने वाले लोग देश के कोने-कोने में फैले हुए हैं। हिंदी दिवस मनाने के पीछे सरकार का प्राथमिक उद्देश्य हिंदी भाषा की संस्कृति को बढ़ावा देना और फैलाना है।इस अवसर पर स्कूलों और कार्यालयों में हिंदी को

5 महान व्यक्तियों के हिंदी को लेकर विचार पढ़कर आप भी करने लगेंगे गर्व...

नई दिल्ली: हर साल की तरह इस साल भी 14 सितंबर 2019 को पूरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाएगा। हिंदी दिवस को मनाने के पीछ सबसे बड़ा कारण यह भी है कि आज के मॉर्डन लाइफस्टाइल पर इंग्लिश का कब्जा बढ़ता जा रहा है। हमारा समाज दिन पर दिन बदल रहा है और इस बदलते हुए समाज में हिंदी की महत्व कहीं न कहीं खत्म होती जा रही है।

स्वाधीन भारत में हिंदी की दशा और दिशा....

नई दिल्ली :  हर साल 14 सितंबर को सरकारी विभागों में राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार के प्रति संकल्प को दुहराते हुए हिंदी दिवस समारोह का आयोजन किया जाता है। जितना इस समारोह और उत्सव में भविष्य के लिए संकल्प का महत्व है उतना ही इसका भी महत्व है कि हिंदी के प्रचार-प्रसार और सरकारी काम-काज में हिंदी के अधिकाधिक प्रोत्साहन हेतु किए गए प्रयासों का सिंहावलोकन किया जाय ताकि जो

क्‍यों मनाया जाता है हिंदी दिवस, जानिए इसका इतिहास और 8 दिलचस्प बातें....

नई दिल्ली: हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। हिंदी विश्व की प्राचीन, समृद्ध और सरल भाषा है। हिंदी भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में बोली जाती है। हिंदी हमारी ‘राजभाषा’ है। दुनिया की भाषाओं का इतिहास रखने वाली संस्था एथ्नोलॉग के मुताबिक हिंदी दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली तीसरी भाषा हैं। हिंदी हमें दुनिया भर में सम्मान दिलाती है। 14 सितंबर

हिन्दी दिवस 2019:कला सुमन रंगमंच 13 को मनाएगी हिंदी दिवस...

नई दिल्ली:संवाद सहयोगी, तरनतारन: नेहरु युवा केंद्र संगठन व हिमाचल भाषा कला संस्कृति विभाग के सहयोग से एनजीओ कला सुमन रंगमंच द्वारा 13 सिंतबर को श्री गुरु अर्जुन देव सरकारी स्कूल कन्या में हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। यह जानकारी एनजीओ के निर्देशक रमेश सिंह चंदेल ने दी।उन्होंने बताया कि कला सुमन रंगमंच द्वारा हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है। कार्यक्रम में विद्यार्थियों के बीच हिंदी सुलेख, निबंध,

हिन्दी दिवस 2019:हिंदी को जिंदा रखने के लिए करने होंगे प्रयास...

नई दिल्ली:यह सत्य है कि अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अंग्रेजी एक ऐसा माध्यम है जिसका विश्व स्तर पर सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। यही वजह है कि हम लोगों को अंग्रेजी सीखनी पड़ती है, लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि हम अपनी मात्र भाषा को बोलने या सीखने में संकोच करें। अगर हम ऐसा करेंगे तो

जानिए हिंदी दिवस का महत्व...

नई दिल्ली:हिंदी दिवस उस दिन की याद में मनाया जाता है जिस दिन हिंदी हमारी आधिकारिक भाषा बनी। आज हमारी सरकार द्वारा हिंदी को बढ़ावा देने के लिए कई तरह के कार्यक्रम चलाए जाए हैं। हिंदी दिवस के दिन कॉलेज और स्कूल स्तर पर विद्यार्थियों को हिंदी का महत्व बताया जाता है। इस दिन सभी सरकारी कार्यालयों में विभिन्न विषयों पर हिंदी में व्याख्यान आयोजित किये जाते हैं। हिंदी को