politics

बीजेपी को इस सीट के लिए नहीं मिल रहा प्रत्याशी...

गोविंद नगर विधानसभा सीट पर बीजेपी को प्रत्याशी चुनने में सबसे ज्यादा माथापच्ची करनी पड़ रही है। टिकट की मांग करने वाले दावेदारों की लिस्ट इतनी लंबी है कि संगठन के शीर्ष पदाधिकारी भी हैरान हैं। बीजेपी ने कुछ ब्राह्मण चेहरों पर विचार किया है, लेकिन कांग्रेस का युवा ब्राह्मण चेहरा बीजेपी का गणित बिगाड़ने का काम कर रहा है। इसका फीडबैक पार्टी के आलाकमान को भी भेजा गया है।

प्रियंका इनको लड़ाना चाहती हैं उपचुनाव...

विधानसभा चुनाव की हलचल तेज होते ही सभी राजनीतिक पाटिर्यों ने अपने-अपने प्रत्याशियों को मैदान में उतारना शुरू कर दिया है। कांग्रेस पार्टी उपचुनावों में फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। कानपुर की गोविंद नगर विधानसभा सीट जो लंबे अर्से तक कांग्रेस के हाथ में रही हैं। प्रियंका गांधी इस सीट पर फिर से कब्जा करना चाहती हैं। वो गोविंद विधानसभा सीट से पूर्व विधायक अजय कपूर को टिकट देना

सुख-दुख के साथी भू-माफिया के लिए मुलायम करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव अब अपने 33 साल पुराने दोस्त के बचाव में उतरे हैं। मुलायम सिंह यादव आज दोपहर 2.30 बजे समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान के पक्ष में प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं। दरअसल, आजकल आजम खान के दिन अच्छे नहीं चल रहे हैं। उनपर 76 मामले दर्ज होने के बाद भू-माफिया का टैग भी लग गया है। इस वजह से नेता जी

पूर्व नेता अलका लांबा  का सोनिया से मिलने की ये वजह तो नहीं...

आम आदमी पार्टी की पूर्व नेता अलका लांबा आज कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने पहुंची हैं। बता दें, अलका सोनिया से मिलने उनके घर गयी हैं। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि अलका कांग्रेस पार्टी में शामिल होने वाली हैं। दरअसल, अलका ने 21 दिसंबर 2018 को एक ट्वीट किया था। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था कि, ‘आज दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव लाया गया

सतीश चन्द्र ने बयान में कहा, मायावती से सीखे योगी सरकार...

बसपा के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य सभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने प्रदेश की योगी सरकार पर जोरदार प्रहार किया है। कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की योगी सरकार को बसपा सुप्रीमों से सीखने की जरूरत है कि सरकार कैसे चलाई जाती है। प्रदेश में अपराध और अपराधियों का बोलबाला है। विधानसभा उपचुनाव में शानदार जीत दर्ज करते हुए 2022 की तैयारियों में जुटना है।  रविवार

बेहद नाजुक दौर से गुजर रहे अरुण जेटली, सेहत में नहीं हो रहा कोई सुधार

पूर्व वित्त मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती हैं, जहां उनकी हालत दिन-पर-दिन और नाजुक होती जा रही है। वैसे AIIMS ने 10 अगस्त के बाद से जेटली का मेडिकल बुलेटिन नहीं दिया है। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली 9 अगस्त से AIIMS में भर्ती हैं क्योंकि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।शुक्रवार शाम यूपी के मुख्यमंत्री योगी

स्वतंत्र देव सिंह का इस्तीफा, बीजेपी अध्यक्ष ने छोड़ा योगी मंत्रिमण्डल

यूपी में होने वाले मंत्रिमंडल के विस्तार होने पहले स्वतंत्र देव सिंह बीजेपी के यूपी अध्यक्ष ने राज्य मंत्रिमण्डल से इस्तीफा दे दिया है। स्वतंत्र देव सिंह ने ये इस्तीफा एक व्यक्ति-एक पद के सिद्धान्त पर दिया है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वतंत्र देव सिंह को मंजूरी दे दी है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद उनका राज्य मंत्रिमण्डल से इस्तीफा लगभग तय माना जा रहा था। अब उनके

सोनभद्र दौरे पर प्रियंका गांधी, ऊम्भा में पीड़ितों से करेंगी मुलाक़ात

सोनभद्र में जमीन के चलते हुए हत्याओं के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी एक बार फिर से सोनभद्र जाकर वहां पीड़ितों से मुलाकात करेंगी। इससे पहले जब सोनभद्र में ये घटना हुई थी तब भी प्रियंका पीड़ितों के परिवार से सोनभद्र जा रही थीं लेकिन उनको वहां जाने से रोक लगा दी गई थी। इस बार प्रियंका वहां पीड़ितों से मुलाकात करके उन्हें उनकी जमीन को वापसे दिलाने में किए

जेटली की हालत पर मिलने पहुंचे पार्टी के नेता...

पूर्व केन्द्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली की तबीयत खराब होने की वजह से दिल्ली के एम्स में भर्ती हैं। अब एम्स के डॉक्टरों ने उनकी हालत में सुधार बताया है। अरुण जेटली अभी गहन चिकित्सा में भर्ती हैं। उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू अरूण जेटली से मिलने के लिए एम्स पहुंचे और उनके परिवार से मुलाकात की। इस दौरान वैंकेया नायडू से डॉक्टरों ने अरुण जेटली की स्थिति स्थिर होने की जानकारी दी। एम्स

मोदी की कामयाबी के पीछे प्राणों की आहुति किस-किस ने दी, जानिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव 2019 के बाद एक बार फिर प्रचंड बहुमत से केंद्र में सरकार बनाई। बीजेपी की इस जीत के पीछे पीएम मोदी और अमित शाह के साथ और भी कई दिग्गज नेताओं का हाथ रहा। मगर अफसोस की बात ये है कि इनमें से कई नेता आज पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साथ नहीं हैं। इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि बीजेपी