Pregnancy-Parenting

डिलीवरी के बाद बढ़ गया है मोटापा तो इन तरीकों से कम करें चर्बी

नई दिल्ली: गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में कई तरह के परिवर्तन होते हैं। बच्चे को जन्म देना इतना आसान नहीं है, इस दौरान शरीर की पाचन क्रिया कई तरह से प्रभावित होती है। गर्भावस्‍था के लक्षणों से लेकर डिलीवरी तक महिलाओं पर होने वाले प्रभाव हर महिला में अलग-अलग होते हैं। प्रेग्नेंसी के बाद कुछ महिलाएं में मोटापा आ जाता है। इसके पीछे कई कारण हैं। प्रेग्नेंसी के

सिजेरियन डिलीवरी के बाद कब नहा सकते है आप, जानिए यहां

इलाहबाद: आजकल सीजेरियन डिलीवरी करने वाली महिलाओं की तादाद धीरे धीरे बढ़ती जा रही है। सीजेरियन डिलीवरी के बाद महिलाओं को बहुत ज्‍यादा ध्‍यान रखना होता है। जाहिर है इस दौरान महिला को तेज दर्द होता है।सीजेरियन के बाद महिलाओं को टांके न खुल जाने की वजह से हफ्तों तक नहीं नहाना चाहिए। ऑपरेशन के दौरान पेट पर लगाया गया चीरे का निशान कच्चा होता है जिस वजह से इन्फेक्शन

बेबी कंसीव करने की संभावना को बढ़ाती है ये खास डाइट

नई दिल्ली: मां बनना एक महिला के लिए शायद जिंदगी के सबसे प्यारे अनुभवों में से एक होता होगा। हर लड़की चाहती है कि शादी के बाद वह मां बने, मगर आजकल की दिनचर्या ऐसी हो गई है कि कई बार अनुभव का अहसास करने के लिए महिलायों को कई कई साल इंतजार करना पड़ता है। कई केसों में गलत खानपान लड़कियों में बांझपन की परेशानी को भी जन्म देता

अगर आप गर्भावस्था में है तो इन संतुलित आहार का करें सेवन

नई दिल्ली: संतुलित आहार ना केवल स्वास्थ्य के लिए जरूरी है बल्कि यह प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए भी आवश्यक है। खाद्य पदार्थ हमारे शरीर के हार्मोन्स को बैलेंस करते हैं। साथ ही प्रजनन क्षमता को भी बढ़ाते हैं जिससे महिलाओं में गर्भवती होने की संभावनाऐं बढ़ जाती हैं। अगर आप गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो हमारे द्वारा बताए गए खाद्य पदार्थों को अपने आहार में

जानिए योग को करने से गर्भावस्था में डिलीवरी में बढता है चांसिस, जाने यहां

लखनऊ: अधिकतर महिलाएं प्रेग्नेंसी के दौरान यही चाहत रखती हैं कि उनकी डिलेवरी नोर्मल, मगर देखने में आया है कि आजकल 80% केसों में डाक्टर आप्रेशन के जरिए ही डिलेवरी करते है। यह आप्रेशन न केवल काफी महंगा होता है बल्कि इसके बाद महिलाओं को कई तहर की परेशानियां उम्र भर के लिए घेर लेती है। जिनमें सबसे आम है कमर और घुटनों में दर्द की परेशानी। यह सब पढ़कर

घुटनों के बल चलने वाले बच्चों को होते है ये लाभ

मुम्बई: माता पिता बनने के सुख को परम सुख माना जाता है। बच्चे के जन्म के बाद घर में उसकी किलकारी पूरे माहौल को खुशनुमा बना देती है। समय के साथ धीरे धीरे बच्चे के शरीर का भी विकास होता है। आमतौर पर बच्चे छह माह के होते होते बैठना शुरू कर देते हैं और फिर वह घुटनों के बल चलने लगते हैं। आज हम अपने इस लेख में आपको

बच्चा होनेे के बाद कितने समय तक न बनाएं यौन सबंध, जानिए यहां

नई दिल्ली: देखा जाएं तो एक महिला का जीवन कई पड़ावों से गुजरता है। इन सभी पड़ावों की सुखद स्मृतियां उसके मस्तिष्क पटल पर लंबे समय तक अपनी छवि बनाएं रखती हैं। स्त्री के जीवन का सबसे बड़ा तथा सुखद पड़ाव होता है उसका विवाह। उस समय उसका रूप निखर आता है और उसके चेहरे पर एक नई चमक होती है। इसके बाद में महिला के जीवन का सबसे सुखद

आपकी पत्नी को है आपकी जरूरत तो ऐसे महसूस कराएं अपनी मौजूदगी

मुम्बई: प्रेगनेंसी का दौर किसी भी महिला के लिए आसान नहीं होता है। इसमें काफी रिस्क, उतार चढ़ाव, स्ट्रेस और दर्द होता है। हां, मगर प्रेगनेंसी एक परिवार को पूरा करने के लिए तोहफे के समान है।दुनिया में इससे बेहतर कोई एहसास नहीं है कि दो प्यार करने वाले लोग दुनिया में एक नई जान को लेकर आते हैं। लेकिन ये सब इतना भी आसान नहीं है। पिता होने के

गर्भाव्स्था में नहीं करनी चाहिए महिला को गलती ये हो सकते है नकारात्मक असर

लखनऊ: गर्भावस्था एक ऐसी कंडीशन होती है। जिसमें महिला का शरीर काफी नाजुक अवस्था में होता है। इस अवस्था में महिला मानसिक तथा शारीरिक तौर पर काफी संवेदनशील हो जाती है। ऐसी कंडीशन में यदि किसी बात के कारण गर्भवती महिला दुखी होती है तो इसका परिणाम काफी गलत होता है। इसका नकारात्मक प्रभाव मां की कोख में पल रहें बच्चे पर बहुत जल्दी पड़ता है। जैसा की आप जानती

गर्भावस्थ में आप चाहती है अपने बच्चे का रंग गोरा हो तो इन चीजों का करें सेवन

मुंबई: गर्भावस्था के बाद हर किसी महिला की दिनचर्या काफी बदल जाती है। उन्हें अपने खाने पीने से लेकर रहन सहन तक हर चीज का खास ख्याल रखना पड़ता है। ये सब इसलिए किया जाता है क्योंकि हर मां चाहती है कि उनका होने वाला बच्चा स्वस्थ व तंदरुस्त हो। बहुत सी महिलाएं चाहती हैं कि उनका बच्चा रंग का गोरा, दिमाग का बुद्धिमार और सुंदर हो। अगर आपके भी