Shraddh

Shraddh

पितृ-पक्ष में क्यों वर्जित हैं सारे शुभ और मांगलिक कार्य?....

नई दिल्ली:   इस वक्त पितरों को खुश करने वाला वक्त यानी पित-पक्ष चल रहा है। 07 सितंबर से आरंभ हुए श्राद्ध काल में एक भी शुभ काम नहीं किया जाता है। ना इस दौरान मांगलिक कार्य होते हैं और ना ही कुछ खरीद-फरोख्त होती है।माना जाता है कि महीने के ये 15 दिन पितरों के लिए होते हैं। जिस तरह से घर-परिवार में जब किसी का देहांत हो जाता है

श्राद्ध पक्ष में अपनी राशि के अनुसार करें पितृ दोष का निवारण....

नई दिल्ली:    किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में पितृ दोष तब बनता है जब उनके मृत परिजन अतृप्त रह जाते हैं या उनके उत्तर कार्य में किसी प्रकार की त्रुटि रह जाती है। पितृ दोष के कारण उस व्यक्ति के जीवन में अनेक प्रकार की कठिनाइयां आती हैं, मुश्किलें आती हैं और वह जीवन में कभी तरक्की नहीं कर पाता है। श्राद्ध पक्ष वर्ष के ऐसे दिन हैं जब पितरों

पितृ अमावस्या पर 20 साल बाद बना शनिश्चरी अमावस्या का संयोग....

नई दिल्ली:     पितरों की शांति और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के सोलह दिन यानी पितृ पक्ष भाद्रपद माह की पूर्णिमा तिथि 13 सितंबर 2019 से प्रारंभ हो रहे हैं। पूर्णिमा का पहला श्राद्ध और फिर आश्विन माह के कृष्ण पक्ष के पंद्रह दिन मिलकर कुल 16 दिनों का श्राद्ध पक्ष होता है। पंचांगों के अनुसार शतभिषा नक्षत्र में शुरू हो रहे पितृ आराधना के पर्व में पितरों के निमित्त

पितृपक्ष में क्या करें और क्या न करें....

लखनऊ:    जब पितरों के कर्मो का लोप होने लगता है अर्थात जातक के द्वारा पितरों के श्राद्ध आदि कर्म उचित व विधिपूर्वक नहीं किये जाते है तो पितर प्रेत योनि में चले जाते है और जातक के वंश वृद्धि, धन वृद्धि, विकास, पद, प्रतिष्ठा आदि में बाधायें आने लगती है। 16 दिन चलने वाले पितृपक्ष इस बार 25 सितम्बर से 09 अक्टूबर तक रहेंगे। किसी भी व्यक्ति को पितृ

पितृपक्ष में जरूर रखें इन बातों का ख्याल वरना होगी दिक्कत.....

नई दिल्ली  :  पितृपक्ष के सोलह दिन हमारे पूर्वजों के दिन होते हैं। मृत पूर्वजों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने और उन्हें संतुष्टि प्रदान करने के लिए 16 दिनों में श्राद्ध, तर्पण, अन्न दान जैसे कर्म किए जाते हैं। माना जाता है कि इससे पितृ प्रसन्न होते हैं। शास्त्रों के अनुसार कुछ कार्य ऐसे भी होते हैं जिन्हें पितृपक्ष के दौरान नहीं करना चाहिए। आइए जानते हैं पितृपक्ष के दौरान

गाय दान करने का सबसे उत्तम समय है पितृपक्ष....

नई दिल्ली:   दान या परोपकार एक ऐसा कर्म है जिसका महत्व सभी धर्मों में समान रूप से स्वीकार किया गया है। हिंदू धर्म में तो दान को सबसे बड़ा पुण्य कर्म माना गया है। जरूरतमंद को दान देने से उसका शुभ आशीर्वाद तो प्राप्त होता ही है, ऐसा करने से कुंडली के समस्त ग्रह दोष भी शांत होते हैं। वैदिक ज्योतिष में तो दान के संबंध में विस्तार से बताया

पितृदोष से मुक्ति के उपाय के सर्वश्रेष्ठ दिन है श्राद्ध पक्ष...

नई दिल्ली :   पितरों के प्रति श्रद्धा व्यक्त करने के दिन होते हैं श्राद्धपक्ष। 13 सितंबर से प्रारंभ हो रहे श्राद्धपक्ष में लोग अपने पितरों की प्रसन्न्ता और उनकी तृप्ति के लिए तर्पण, पिंडदान, दान-धर्म करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं पितृपक्ष पितृदोष की शांति के दिन भी होते हैं। यदि किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में पितृदोष बना हुआ है तो पितृपक्ष से अच्छा और कोई समय नहीं होता

सर्वपितृ अमावस्या पर कीजिए ये काम, दूर होंगे कष्ट....

नई दिल्ली:    सर्वपितृ या पितृमोक्ष अमावस्या 28 सितंबर 2019 को है, इस बार सर्वपितृ अमावस्या पर शनैश्चरी अमावस्या का दुर्लभ संयोग बन गया है। दो दशक के बाद पितृमोक्ष अमावस्या पर शनिवार का संयोग आना जीवन की विभिन्न परेशानियों का हल लेकर आया है। इस दिन अनेक प्रकार के उपाय या टोटके किए जाते हैं, जिनसे जीवन में सुख-समृद्धि, धन-संपदा की प्राप्ति की जा सकती है। भगवान शिव को

जानिए पितृपक्ष के पांच सबसे बड़े दान के बारे में...

नई दिल्ली:    दान या परोपकार एक ऐसा कर्म है जिसका महत्व सभी धर्मों में समान रूप से स्वीकार किया गया है। हिंदू धर्म में तो दान को सबसे बड़ा पुण्य कर्म माना गया है। जरूरतमंद को दान देने से उसका शुभ आशीर्वाद तो प्राप्त होता ही है, ऐसा करने से कुंडली के समस्त ग्रह दोष भी शांत होते हैं। वैदिक ज्योतिष में ग्रह पीड़ा से मुक्ति के लिए दान

शुरू हो रहे हैं श्राद्ध, जानें कौन होते हैं पितृ.....

नई दिल्ली:   पितृपक्ष 14 सितंबर से शुरू हो रहे हैं। पितृपक्ष पूर्णिमा के साथ शुरू होकर 16 दिनों के बाद सर्व पितृ अमावस्या के दिन समाप्त होगा है। इस 16 दिनों में हिंदू धर्म को मानने वाले लोग अपने पितरों को याद करके उनका श्राद्ध कहते है। पितरों को मुक्ति और उन्हें ऊर्जा देने के लिए श्राद्ध कर्म किये जाते है। इस बार पितृपक्ष 14 सितंबर से शुरू हो रहा