‘देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन’ , गणेश चतुर्थी पर लोगो ने लगाया ये जयकारा….

'देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन' , गणेश चतुर्थी पर लोगो ने लगाया ये जयकारा....

लखनऊ:   श्री गणेश प्राकट्य कमेटी की ओर से 14वां श्री गणेश महोत्सव सोमवार को झूलेलाल घाट निकट हनुमान सेतु के पास शुरू हुआ। कार्यक्रम की शुरुआत प्रात: 9:30 बजे विधिविधान से गणपति की मूर्ति स्थापना, शृंगार एवं पूजन के साथ हुई। आचार्य कमलेश पंडित के साथ अन्य आचार्यों ने मंत्रों के साथ मूर्ति स्थापना कराई। मनौतियों के राजा के नाम से होने वाला सबसे बड़े ‘श्री गणेश महोत्सव में शाम को कोलकाता के संजय शमा व साथियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम संपन्न हुआ। सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत भगवान गणेश की आरती जय देव जय देव मंगलमूर्ति सुखकर्ता दुख हर्ता से हुई। शाम को कोलकाता के संजय शर्मा के निर्देशन में ‘अखण्ड भारत का सपना साकार करते हुए तथा अनेकता में एकताÓ थीम पर बने पंडाल पर नृत्य नाटिका का मंचन हुआ।

उसके बाद गणेश लीला का मंचन हुआ। मंगलवार को बप्पा के दरबार में दोपहर 12 बजे मोदक, अभिषेक और शाम को गजरा का चढ़ेगा।सोमवार को ‘अलीगंज का राजा’ के दरबार में भजनों की बारिश हुई। सुबह मंत्रोच्चार के बीच मंगलमूर्ति की स्थापना हुई और शाम को कानपुर के कुमार मुकेश ने गणेश वन्दना की। उसके बाद एक ‘घर में पधारो गजानन… भजन सुनाया। उसके बाद देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौनÓ सुनाया तो बप्पा का दरबार जयकारों से गूंज उठा। गुलाब वाटिका गणेश पूजा समिति की ओर से भगवान गणेश के जन्मोत्सव के अवसर पर पांच दिवसीय गणेश महोत्सव छह सितंबर तक नेहरु बाल वाटिका के पास गुलाब वाटिका अपार्टमेंट परिसर में चलेगा।

मंगलवार को प्रयागराज के जितेंद्र बजरंगी व सीतापुर के अनुराग रोशन का कार्यक्रम होगा।अमीनाबाद के राजा के 29वें गणेशोत्सव जश्न-ए-कश्मीर थीम पर इस बार मनाया जा रहा है। पांच सितंबर को सांस्कृतिक कार्यक्रम में देशभक्ति, कश्मीर और भारतीय वीर सैनिकों पर आधारित जोशीले आयोजन हुए।चौपटिया में सोमवार से आठ सितंबर तक गणेशोत्सव मनाया जाएगा।

यहां हर दिन बप्पा के पंडाल का अलग-अलग थीम सजाया जाएगा। अखंड भारत, सुदृढ़ अर्थव्यवस्था, जनसंख्या नियंत्रण कानून, राफेल से लैस सेना, वृद्धाश्रम बंद हों, एकीकृत परिवारों में बुजुर्गों की अहमियत को लेकर बप्पा की आराधना की जाएगी। श्री शुभ संस्कार समिति के ऋद्धिकिशोर गौड़ ने बताया गणपति प्रतिमा मिट्टी और भूसी से बनाई है, जिसमें वॉटर कलर का उपयोग किया है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *