जानिए भारत में हर राज्यों में क्यों पहने जाते है अलग तरह के चूड़े…

जानिए भारत में हर राज्यों में क्यों पहने जाते है अलग तरह के चूड़े...

नई दिल्ली : हमारे देश में परंपराओं को विशेष महत्व दिया जाता है। विवाहित महिलाओं ही नहीं बल्कि लड़कियां भी इन परंपराओं को मानती है। ऐसे में जब उन्हें अपनी शादी में चूड़ियां पहननी होती है, तो वह अच्छी तरह से जानती हैं कि उन्हें किस तरह के चूड़े को कैरी करना है। भले ही आज का दौर फैशन का हो, लेकिन हर राज्य में अलग-अलग तरह के चूड़े को पहना जाता है।

कुछ जगहों पर यह चूड़े कांच के तो कुछ में धातुओं का इस्तेमाल करके बनाए जाते हैं। आइए आज हम आपको कुछ अलग-अलग तरह के चूड़े के बारे में बताते हैं, जो कि हमारे देश में अलग- अलग राज्यों में पहने जाते हैं।महाराष्ट्र में चूड़े पहनने की परंपरा जरा अलग होती है। हम आपको बता दें कि यहां पर दुल्हन हरे रंग की चूड़ियां पहनती है, जो कि नए जीवन और प्रजनन क्षमता का प्रतीक होते हैं।

इस चूड़े के साथ ही वह सोने के कड़े भी पहनती हैं, जो कि इसे एथिनक लुक देती है।गुजरात में सफेद, हरे और लाल रंग की चूड़ियां पहननी जाती है, जिस पर काफी अच्छा काम होता है। यह चूड़े दुल्हन को उसकी मां देती है, जो कि काफी शुभ माना जाता है।पंजाबी दुल्हन हाथी के दांतों से बनाएं गए लाल रंग के चूड़े को पहनती हैं।

यह चूड़े लड़की के मामा लाकर देते हैं। विवाह के बाद इस चूड़े को लड़की 6 महीने से 1 साल तक नहीं उतारती हैं।बंगाली दुल्हन को सफेद और लाल रंग के चूड़े पहनने होते हैं। इस चूड़े को स्थानीय लोग शाखा व पोला के नाम से पुकारते हैं। यह रस्म सात वैवाहिक महिलाओं के द्वारा निभाई जाती है।

मलयाली दुल्हन अपनी शादी में ऊपर से नीचे तक सोने के गहनों में लदी रहती है। इसी के साथ उनकी चूड़िया भी सोने की ही होती हैं।साउथ इंडियन लोगों को सोना बेहद पसंद होता है, जिसके कारण वह अक्सर सोने के कड़ों के साथ ही रंग बिरंगी कांच की चूड़ियां अपनी शादी में पहनती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *