pregnancy tips

ये संकेत बताएंगे आपके बच्चे की नींद से जुड़ी परेशानी.....

नई दिल्ली  :  हर माता-पिता को अपने बच्‍चे को बीमार देखकर बहुत बुरा लगता है। सामान्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्याओं को तो आसानी से पहचाना जा सकता है लेकिन नींद से संबंधित विकारों की पहचान तब तक नहीं हो पाती है जब तक कि आप उस पर बारीकी से ध्‍यान ना दें। नींद से संबंधित विकारों में नींद आने में दिक्‍कत, आधी रात को नींद से जागना, बिस्‍तर गीला करना आदि शामिल

कार्टून देखने से बढ़ती है बच्‍चों की याद्दाश्‍त....

नई दिल्ली  :  इस बात में कोई शक नहीं है कि बच्‍चों को कार्टून देखना बहुत पसंद होता है। बच्‍चे तो पूरा दिन टीवी के सामने बैठकर कार्टून देख सकते हैं। आमतौर पर माता-पिता को बच्‍चों की इस आदत को लेकर चिंता रहती है क्‍योंकि इससे उनकी आंखें तो खराब होती ही हैं साथ ही उन पर इसका नकारात्‍मक प्रभाव भी पड़ता है। लेकिन हाल ही में हुई एक स्‍टडी

इन सरल तरीकों से अपने बच्चे से बनाये अटूट रिश्ता....

नई दिल्ली :  हम सभी इस बात से पूरी तरह सहमत हैं कि पहली बार माता-पिता बनना आसान बात नहीं होता है। छोटे-से शिशु को संभालना कोई मजाक की बात नहीं है। कई तरह की सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। अगर आप भी पहली बार पैरेंट्स बने हैं तो जान लीजिए कि आप अपने बच्‍चे के करीब जाने के लिए क्‍या कर सकते हैं। आपको शायद मालूम नहीं होगा कि आपके

जब ठोस आहार के लिए शिशु न हो तैयार तो मिलते हैं ये संकेत....

नई दिल्ली  :  अपने बच्‍चे को पहली बार कोई ठोस आहार देना बहुत मुश्किल काम होता है लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि इसके लिए सही समय क्‍या होता है। शिशु से आपको ऐसे कई संकेत मिल सकते हैं जिनसे ये पता चलता है कि अब वो ठोस आहार लेने के लिए तैयार नहीं है। लेकिन कुछ गलत संकेतों की वजह से माता-पिता को लगने लगता है कि उनका शिशु

अपने शिशु के लिए इस्तेमाल कीजिये  इको-फ्रेंडली डायपर, फायदे जानकर हैरान रह जायेंगे आप....

नई दिल्ली :   शिशु की देखभाल में डायपर्स भी अहम भूमिका निभाते हैं। अकसर माता पिता अपने शिशु को डिस्‍पोजेबल डायपर या घर में किसी कपड़े से लंगोट बनाकर पहनाते हैं। लंगोट तो शिशु के एक बार पेशाब करने पर ही गंदी हो जाती है जबकि डिस्‍पोजेबल डायपर महंगा पड़ता है और इससे शिशु को रैशेज भी हो सकते हैं। माता पिता डिस्‍पोजेबल डायपर का इस्‍तेमाल इसीलिए करते हैं क्‍योंकि

शिशु को मां का दूध छुड़ाने के टिप्‍स....

नई दिल्ली :   नवजात शिशु के लिए मां का दूध अमृत से कम नहीं होता है लेकिन एक समय ऐसा भी आता है जब शिशु को मां का दूध देना बंद करना पड़ता है। ये दूध छुड़ाने की प्रक्रिया होती है जिसमें बच्‍चे को मां के दूध के अलावा बाकी चीजें खिलाना शुरु करना होता है। आप कई तरीकों से अपने शिशु को पोषण दे सकती हैं, जैसे कि: फॉर्म्‍यूला

'किराए की कोख' पर सरकार ने लगाई रोक, जानिए क्‍या कहता है नया कानून....

नई दिल्ली  :  कर्मशियल सरोगेसी से जुड़ा एक बिल लोकसभा में पास कर द‍िया गया है। जिसके तहत कमर्शियल सरोगेसी पर बैन लगा दिया है। इस विधेयक को पास करवाते हुए स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया कि पूरे भारत में 2 से 3 हज़ार गैर-कानूनी सरोगेसी सेंटर चल रहे हैं। इन सेंटर्स में हज़ारों विदेशी कपल बच्‍चे की चाह में भारत आते हैं और सरोगेसी करवाते हैं और ये पूरी

क्या आप जानती है कि आपके शिशु  के लिए कौन सा सप्लिमेंट है आवश्यक...

नई दिल्ली  :  छोटे बच्चों की देखभाल करना काफी मुश्किल रहता है। एक मां के लिए बहुत जरुरी है कि उसे शिशु के आहार से लेकर उसके स्वास्थ्य तक से जुड़ी हर आवश्यक जानकारी हो। किसी भी शिशु के लिए उसे दिए जाने वाले सप्लिमेंट बहुत जरुरी रहते हैं क्योंकि यही बच्चे का शारीरिक व मानसिक विकास करते हैं। 6 महीने के बाद जब बच्चा मां के दूध के अलावा

जानिए बच्‍चे के बढ़ते वजन को कंट्रोल करने के सही तरीके....

नई दिल्ली  :  विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार 0 से 5 वर्ष के 41 मिलियन बच्‍चे मोटापे से ग्रस्‍त हैं। वर्ष 2025 तक वैश्विक स्‍तर पर मोटापे और ओवरवेट बच्‍चों की संख्‍या 70 मिलियन तक पहुंच सकती है। बचपन में ही मोटापा होना कई गंभीर बीमारियों जैसे कि डायबिटीज और ह्रदय रोग को बुलावा दे सकता है। लेकिन इस बारे में ज्‍यादा चिंता करने की

ल‍िक्विड सोने से कम नहीं है मां का दूध, दूध दान करके भी बचा सकते नवजात की जान....

नई दिल्ली  :  दुन‍ियाभर में मांओं में स्‍तनपान और शिशुओं के स्‍वास्‍थय में सुधार को देखते हुए हर साल ‘ब्रेस्टफीडिंग वीक’ मनाया जाता है। इसके बावजूद प्रतिवर्ष मां का दूध न मिलने के कारण कई नवजात शिशुओं की मौत हो जाती है। एक रिपोर्ट के अनुसार 100 में से 16 बच्‍चों की मौत इसल‍िए हो जाती है क्‍योंक‍ि उन्‍हें जन्‍म के बाद मां का पहला दूध नहीं मिल पाता है।